क्षेत्राधिकारी चौरी चौरा रहे कपिल देव मिश्र पुलिस उपाधीक्षक ने लिया स्वैच्छिक सेवानिवृति।

क्षेत्राधिकारी चौरी चौरा रहे कपिल देव मिश्र पुलिस उपाधीक्षक ने लिया स्वैच्छिक सेवानिवृति।

गोरखपुर माह सितंबर 2020 में जनपद में आगमन के पश्चात श्री मिश्र पुलिस क्षेत्राधिकारी चौरीचौरा के रूप में नियुक्त किए गए थे। अपने पारिवारिक समारोह में सम्मिलित होने के लिए उन्होंने लम्बा उपार्जित अवकाश लिया था,इसी मध्य उनके द्वारा स्वैच्छिक सेवानिवृत्त हेतु प्रार्थना पत्र उत्तर प्रदेश सरकार को दिया गया। मुख्यमंत्री के अनुमोदन के उपरांत इसे राज्यपाल आनंदीबेन द्वारा स्वीकार कर लिया गया है।वह 31 मार्च 2021 को स्वैक्षिक सेवानिबृत्त किए जायेंगे।इस आशय का शासनादेश अपर मुख्य सचिव अवनीष अवस्थी द्वारा जारी किया गया है।

सन् 1990 में कपिल देव मिश्र द्वारा उप निरीक्षक के रूप में जनपद आजमगढ़ से अपनी सेवा प्रारंभ की गई,जहां मात्र तीन साल की सेवा के उपरांत वह थानाध्यक्ष बने, जो उस समय के उत्तर प्रदेश के सबसे कम उम्र के थानाध्यक्ष थे।अपने सेवा काल मे उन्होंने लगभग 65 दुर्दांत अपराधियों का इनकाउंटर किया।बनारस मे2005 में वह आउट आफ टर्न निरीक्षक बनाएं गए। लखनऊ में भी लगभग 7 वर्ष तक महत्वपूर्ण स्थानों पर नियुक्त रहे,जहां से वे आऊट आफ टर्न पुलिस उपाधीक्षक के पद पर प्रोन्नत किए गए।इनकी अगली प्रोन्नति 2024 में अपर पुलिस अधीक्षक के पद पर संभावित थी,कि सेवा समाप्ति के लगभग 6 वर्ष पूर्व ही इनके द्वारा स्वैक्षिक सेवानिवृत्ति ले ली गईं।यद्यपि कि सेवानिवृत्ति लेने वाला अधिकारी राज्य सरकार की अनुमति के उपरान्त पुनः सेवा में लिया जा सकता है।
श्री मिश्र ने आगे समाज सेवा क्षेत्र से जुड़ने की बात कही है।उनके अधिकारियों व अधीनस्थों ने उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है।