प्रधान प्रतिनिधि समाजसेवी बने प्रेरणा स्त्रोत

प्रधान प्रतिनिधि समाजसेवी बने प्रेरणा स्त्रोत

1 हफ्ते से कर रहे गैर प्रांत से आए प्रवासी मजदूरों की मदद

मीनू बनाकर खाद्य राहत सामग्री का करते वितरण

नीरज सिंह रिपोर्ट :-चौडगरा फतेहपुर जनपद की मलवां विकासखंड के अभयपुर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि पुत्र संजय सिंह के साथ समाजसेवी राकेश यादव की अगुवाई में संपन्न लोग, संस्थान, एनजीओ, स्वयंसेवी संगठन, सहित अनेक लोगों को प्रेरित करते हुए। गैर जनपद से आए लोगों की मदद के लिए एक कदम बढ़ाते हुए। कड़ाई के साथ ग्राम सभा के सरकारी विद्यालय में होम क्वारेंटाइन, आइसोलेशन की व्यवस्था करते हुए। प्रतिदिन मीनू के आधार पर लगातार एक हफ्ते से खाद्य राहत सामग्री का वितरण किया जा रहा है। सराहनीय पहल पर ग्रामवासी व सेंटर में मौजूद गैर जनपद से प्रवासी मजदूर एवं ग्रामीण ग्राम प्रधान प्रतिनिधि व समाजसेवी के पहल पर संतोष प्रकट करते हुए खुशी जताई। जानकारी के अनुसार शनिवार को अभयपुर जूनियर विद्यालय, बड़ा खेड़ा जूनियर, दरियापुर जूनियर, नया खेड़ा विद्यालय में 3kg नमकीन, एक बोरी लाइ, का वितरण प्रत्येक विद्यालय में कराया गया वह दूसरे दिन रविवार को केला, 100 ग्राम दूध, चीनी सही तो शाम को नाश्ते में दो समोसे घर से बनवा कर प्रत्येक व्यक्ति को वितरण करने का सराहनीय कार्य की जमकर प्रशंसा की जा रही है।
ग्राम प्रधान पुत्र प्रतिनिधि संजय सिंह ने बताया कि सभी के सहयोग से कोविड-19 की लड़ाई में देश के विषम परिस्थितियों में छोटा सा सहयोग ग्राम सभा के प्रवासी मजदूरों के साथ जिम्मेदारी का बोध लोगों को कराया जा रहा है। किसी भी प्रकार की समस्या होने पर ग्रामवासी हमें सूचित करें हरसंभव मदद की जाएगी।

समाजसेवी राकेश यादव ने बताया कि आम ग्रामीणों की समस्या व प्रवासी मजदूरों को ध्यान में रखते हुए ग्राम सभा अभयपुर के अंतर्गत आने वाले गरीब शोषित वंचित परिवारों की हर संभव मदद के लिए हमेशा की तरह खड़ा हूँ। कोविड-19 की लड़ाई में देश के साथ शासन प्रशासन हर कदम पर सहयोग व सेवा भाव के तहत सहयोग करने के लिए तैयार हूं।

ब्रेकिंग- फतेहपुर

ब्रेकिंग- फतेहपुर

मलवा थाने के चक्की गांव में युवक की दिन-दहाड़े गला रेतकर हत्या… बीए का छात्र है युवक, खेतों में सब्जी की रखवाली कर रहा था युवक… पुलिस मौके पर जांच पड़ताल में जुटी ।

शौचालय पूर्ण न करने वालों को चिन्हित करने गए रोजगार सेवक के साथ हुई मारपीट

शौचालय पूर्ण न करने वालों को चिन्हित करने गए रोजगार सेवक के साथ हुई मारपीट

नीरज सिंह की रिपोर्ट :-फतेहपुर जनपद के मलवां विकासखंड के मौहार ग्रामसभा रोजगार सेवक अनुराग कुमार को विकासखंड ग्राम पंचायत विकास अधिकारी द्वारा ग्राम सभा में स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत जिन लाभार्थियों को शौचालय हेतु धनराशि दी गई। जहां अभी तक लाभार्थियों द्वारा शौचालय निर्माण नहीं करवाया गया। उन्हें पूर्ण कराने व चिन्हित करने के लिए मौहार मजरे कनैरी गांव में रविवार को सोनू दरवाजे पर गाली गलौज के साथ मारपीट कर दी स्वयं को पीड़ित दिखाने के लिए 112 नंबर भी डायल कर करते हुए चोरी की चोरी ऊपर से सीना जोरी कहावत को चरितार्थ कर दिया। पीड़ित रोजगार सेवक चौकी इंचार्ज चौडगरा डीडी वर्मा से कानूनी कार्रवाई करने की अपील की।
ग्राम सभा सचिव धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि आदेश के अनुसार रोजगार सेवक द्वारा ग्राम सभा में शौचालय निर्माण की देखरेख का कार्य किया जा रहा था जिसने बाधा डालना सरकारी कार्य में बाधा डालने के बराबर है। प्रशासन को कड़ी से कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए जिससे पुनरावृत्ति न हो

नीलकंठ पैलेस पटेलनगर में आहूत की गई,

उद्योग व्यापार मण्डल उत्तर प्रदेश नीलकंठ पैलेस पटेलनगर फतेहपुर, पंजीयन संख्या, 630,2016,,2017 पत्रांक, 17520, दिनांक 17 मई 020 उद्योग व्यापार मण्डल की बैठक आज दिनांक 17 मई को अपराहन 3 बजे नीलकंठ पैलेस पटेलनगर फतेहपुर में आहूत की गई, बैठक में कोरोना लॉकडाउन के अन्तर्गत पिछले अनेक दिनों से पूरी तरह बन्द बाजार रोजगार पर चिन्ता जाहिर की गई, विगत 2 माह से पूर्ण व्यापार रोजगार ठप्प होने की वजह से निर्धन व मध्यम वर्गीय व्यापारी व कर्मचारी भुखमरी के कगार पर खड़ा हो गया है, अनेक प्रकार के व्यापारी ट्रेड जिनको व्यापार खोलने की किसी भी प्रकार की छूट प्राप्त नही है, बन्द व्यापार की वजह से सम्पूर्ण जीवनशैली प्रभावित हो गई है, एक तरफ स्वयं के जीवन यापन हेतु व्यापारी अनेक प्रकार के संकटों से जूझ रहा है, वही दूसरी तरफ व्यापारियों से जुड़े कर्मचारियों का जनजीवन प्रभावित हो गया है, जिसके निदान हेतु समस्त ट्रेडों के व्यापारियों को व्यापार खोलने की अनुमति प्रदान किये जाने की नितान्त आवयश्कता है, ताकि व्यापारी अपना सूक्ष्म व्यापार करके अपना ,अपने परिवार का व जुड़े कर्मचारियों के जीवन यापन का सहायक बन सके, ,, संस्थापक अध्यक्ष किशन मेहरोत्रा ने कहा कोरोना लॉक डाउन में समस्त व्यापारियों ने शासन प्रशासन को भरपूर सहयोग देकर अपने प्रतिष्ठान बन्द रखते नियमो व आदेशो का पालन किया है, उद्योग व्यापार मण्डल ,व्यापारियों की पीड़ा को समझते अति शीघ्र माo जिलाधिकारी महोदय जी से भेंट करते समस्त ट्रेडों के प्रतिष्ठान को खोलने की अनुमति हेतु निवेदन करेगा, साथ ही व्यापारियों की तरफ से शासन प्रशासन को समस्त नियमो का पालन करने हेतु अश्वशस्त करेगा, बैठक में संस्थापक अध्यक्ष किशन मेहरोत्रा, अनिल वर्मा, मनोज साहू, कृष्ण कुमार तिवारी, , चन्द्र प्रकाश बब्लू गुप्ता, अशरफ अली, अंचल रस्तोगी, गुरुमीत सिंह ,सौरभ कुमार सहित अनेक पदाधिकारीगण उपस्थित रहे

फर्जी मुकदमे से पत्रकारों में आक्रोश, दिया ज्ञापन

फर्जी मुकदमे से पत्रकारों में आक्रोश, दिया ज्ञापन

एक ट्वीट बना फर्जी मुकदमे का कारण लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर हमला जिलाधिकारी के हटानें व वित्तीय जांच की रखी मांग

फ़तेहपुर । जिला पत्रकार संघ के अध्यक्ष के खिलाफ फर्जी मुकदमा पंजीकृत होने से पत्रकारों में बेहद आक्रोश है उसी को लेकर संघ के नेतृत्व में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ महामहिम राज्यपाल को संबोधित एक ज्ञापन प्रशासन को सौंपा गया। जिसमें फर्जी मुकदमे को तत्काल स्पंज करने व जिलाधिकारी के कार्यकाल की उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की गई।
आपको बता दें कि कोविड-19 की लड़ाई में लगातार पत्रकारों ने प्रशासन का सहयोग किया है मगर खामियों को उजागर करने से खिन्न जिलाधिकारी संजीव सिंह लगातार जनपद में पत्रकार उत्पीड़न कर रहे हैं उनके उत्पीड़न से आहत पत्रकारों ने 30 मई को पत्रकारिता दिवस को काला दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है। ज्ञापन के माध्यम से संघ के अध्यक्ष अजय भदौरिया ने कहा कि जिलाधिकारी द्वारा अपने पद का दुरुपयोग करते हुए राजस्व निरीक्षक को वादी बनाकर एक फर्जी आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया गया है जिसमे एक ट्वीट के माध्यम से कम्युनिटी किचन बंद होने की अफवाह फैलाने का आरोप व एक रैकेट चलाने का अनर्गल आरोप लगाया गया है। श्री भदौरिया ने कहा कि पत्रकारों का सबसे लंबी अवधि तक अध्यक्ष रहने के दौरान और 32 वर्ष की पत्रकारिता में पहली बार किसी अधिकारी द्वारा इस तरह के अनर्गल आरोप लगाकर जनता, प्रशासन और शासन में छवि धूमिल करने का कुत्सित प्रयास किया गया है जो स्पष्ट द्वेष भावना से ग्रसित नज़र आ रहा है। इसी प्रकार जनपद के दो प्रमुख पत्रकारों के खिलाफ गौशालाओं की खामियां उजागर करने पर एक मुकदमा इन्ही के ब्यक्तिगत दबाव पर लिखा गया था। जिसके बाद पत्रकार आंदोलित हुए थे तब जनपद के दूसरे बड़े अधिकारियों ने मध्यस्थता करके मुकदमे को स्पंज करने का आश्वासन दिया था। लेकिन जिलाधिकारी का लगातार उत्पीड़न जारी है कोविड 19 के खिलाफ जनपद के सभी पत्रकार प्रशासन का लगातार सहयोग कर रहे हैं फिर भी कुछ पत्रकारों को सार्वजनिक रूप से इनके द्वारा अपमानित किया गया। अध्यक्ष श्री भदौरिया ने ज्ञापन के माध्यम से महामहिम राज्यपाल से अनुरोध किया है कि पद का दुरुपयोग करते हुए जिलाधिकारी के दबाव में जो मुकदमे पंजीकृत हुए हैं उनको समाप्त करते हुए दोषी जनों पर कानूनी कार्यवाही करने की कृपा की जाए। उन्होंने यह भी कहा अगर 15 दिवस के अंदर पत्रकारों के ऊपर दर्ज फर्जी मुकदमे समाप्त नहीं हुए और जिलाधिकारी के कार्यकाल की वित्तीय व पद दुरुपयोग की जांच नहीं हुई तो आगामी 30 मई को सभी पत्रकार पत्रकारिता दिवस को काला दिवस के रूप में मनाएंगे। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ अनुमति लेकर कलेक्ट्रेट या विधान भवन के सामने विरोध दर्ज कराने के लिए मजबूर होंगे।

ऑनलाइन प्रवेश के साथ उच्च गुणवत्ता कि शिक्षा देना ही प्राथमिक विद्यालय का प्रमुख उद्देश्य

ऑनलाइन प्रवेश के साथ उच्च गुणवत्ता कि शिक्षा देना ही प्राथमिक विद्यालय का प्रमुख उद्देश्य

एक दर्जन से अधिक छात्रों ने लिया ऑनलाइन प्रवेश

नीरज सिंह की रिपोर्ट :-चौडगरा फतेहपुर जनपद के कार्यकुशलता के दम पर चर्चित प्राथमिक विद्यालय में सुमार मलवां विकासखंड के प्राथमिक विद्यालय द्वितीय शिवराजपुर में ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी का दायित्व निभाने वाले शिक्षकों ने ऑनलाइन प्रवेश प्रारंभ कर भविष्य को देखते हुए अध्ययन में रुचि रखने वाले छात्रों को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन प्रवेश के माध्यम से बंद दरवाजों को खोल दिया है। जिससे उच्च गुणवत्ता की शिक्षा लेने वाले छात्रों में उत्साह का माहौल है। नई तरह की शिक्षा व्यवस्था से खुश दिख रहे छात्रों में आनलाइन मोबाइल पढाई से कंपटीशन के साथ छात्रों में एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ भी इन दिनों चर्चा में है अधिक मेहनत कर साथी छात्र को पछाड़ ने का प्रयास दिन रात मेहनत लगन के साथ छात्र कर रहे जिससे उनकी शिक्षा नीति में आमूलचूल बदलाव के साथ क्षमता का प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। जो विद्यालय परिवार के लिए संजीवनी का काम कर रही है भविष्य में प्रतियोगी परीक्षाओं में छात्र विद्यालय का नाम रोशन करने का काम करेंगे।
खंड शिक्षा अधिकारी अनीता शाह के नेतृत्व में एकेडमिक रिसोर्सेस पर्सन के प्रेरणा एवं सहयोग के चलते सुनील कुमार तिवारी की निगरानी में ऑनलाइन पढ़ाई की व्यवस्था की जिम्मेदारी प्रधानाध्यापिका लीना साहू के सहयोगी अध्यापकों द्वारा प्रतिदिन टाइम टेबल के आधार पर लगभग आधा सैकड़ा छात्र-छात्राएं उच्च गुणवत्ता की शिक्षा देकर ऑनलाइन शिक्षा व्यवस्था को बढ़ावा देने का काम कर रही हैं। जो प्रेरणा स्रोत है। प्रधानाध्यापिका ने बताया कि अब तक कक्षा एक में 16 कक्षा दो में 3 बच्चे सहित कुल 19 छात्रों को प्रवेश ऑनलाइन प्रवेश दिया गया है ऑनलाइन कक्षाओं के संचालन नवीन नामांकन में ग्राम प्रधान सूर्य प्रकाश यादव द्वारा किए जा रहे अथक प्रयासों के चलते तब संभव हो पा रहा है जिससे विद्यालय परिवार सकारात्मकता के साथ नई दिशा व दशा तय कर नए आयाम स्थापित करने का हर संभव प्रयासरत ।

दानूपुर में केवल ‘परदेशियों’ को सुविधा के नाम पर ‘खाट’ मिली

दानूपुर में केवल ‘परदेशियों’ को सुविधा के नाम पर ‘खाट’ मिली

भदोही। सरकार जहां परदेशियों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए ट्रैन व बस की व्यवस्था की है। और जिला स्तर पर जांच कराकर उनको उनके घर 14 दिन तक एकांतवास में रहने का निर्देश दे रही है। और सभी ग्राम सभाओं में परदेसियों के रहने खाने की व्यवस्था की है लेकिन भदोही जिले में प्रशासन और ग्राम प्रधान की लापरवाही से केवल खानापूर्ति का खुला खेल हो रहा है। जिले के अधिकतर गांवों में परदेशियों को ग्राम प्रधान के तरफ से कोई भी व्यवस्था नही दी जा रही है। बल्कि परदेशी के घर वाले खुद भोजन इत्यादि पहुंचाते है।
एक ऐसा ही मामला जिले के अभोली ब्लाक के दानूपुर में दिखा जहां भिवंडी से आये तीन दर्जन से अधिक परदेशियों को ग्राम प्रधान व प्रशासन के तरफ से कोई व्यवस्था न दी गई है। केवल सभी के लिए केवल ‘खाट’ की व्यवस्था की गई है। आने वाले सभी परदेशियों को नाश्ता और भोजन की व्यवस्था उनके परिवार वाले कर रहे है। जिसमें कुछ समाजसेवी भी परदेशियों को नाश्ता इत्यादि की व्यवस्था अपने स्तर से किये है। रविवार को जिले में आई आंधी पानी में अपनी जिंदगी को दाव पर रहे परदेशी जहां केवल व्यवस्था के नाम पर ‘खाट’ दी गई। लेकिन जिले के जिम्मेदार है कि जैसे वे सब इन बातों से अंजान है। यही हाल जिले के अधिकतर गांवों में है। कुछ प्रधान तो ऐसे है जो खुले में कहते है कि मै कोई व्यवस्था नही करूंगा। जिनको जो करना है कर ले। आखिर इस तरह की लापरवाही का जिम्मेदार कौन है? प्रशासन और ग्रामप्रधान या अन्य राज्य से आया परदेशी?

पंजाब में फंसे 28 लड़को की वापसी हो रही कौशाम्बी

👉🏻पंजाब में फंसे 28 लड़को की वापसी हो रही कौशाम्बी

👉🏻परिजनों ने मदद के लिए बीजेपी नेता करन सिंह को किया धन्यवाद

आकाश सिंह चन्देल कौशांबी ब्यूरो :-जनपद के नगर पंचायत अझुवा वार्ड नम्बर — 5 के 28 लड़के पंजाब में नौकरी करते हैं इस लॉक डाउन के चलते पंजाब में ही फंस गए थे , खाने पीने को कुछ ना होने की वजह से कई दिनों से भूखे प्यासे होने के बाद लड़को ने कौशाम्बी के अझुवा निवासी बीजेपी नेता करन सिंह को फोन किया और आपबीती बताई , करन सिंह ने जनप्रतिनियो और अधिकारियों से बात करके पंजाब में फंसे 28 लड़को को अझुवा वापसी के लिए जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों से लगातार सम्पर्क में रहते हुवे लड़को को पंजाब से कौशाम्बी के अझुवा बुलाने में सफल हुवे , मिल रही जानकारी के अनुसार सभी 28 लड़के रास्ते मे हैं जल्द हो अझुवा पहुचने वाले हैं जानकारी मिलते ही लड़को के परिजनों ने करन सिंह को उनके निवास पर जाकर धन्यवाद दिया ।

हत्या से फिर दहली भदोही, हफ्ते भर में दूसरी घटना।

हत्या से फिर दहली भदोही, हफ्ते भर में दूसरी घटना।

संवाददाता भदोही :- भदोही। जिले में हत्यारों के हौसले इतने बुलन्द है कि वे तनिक भी प्रशासन का खौफ नही रख रहे है और घटना को अंजाम दे देते है। जनपद की पुलिस अभी सेमराध में हुई सब्जी व्यवसायी की हत्यारे के बारे में पता ही लगा रही थी कि शनिवार की रात गोपीगंज थाना के ग्राम चकनिरंजन में एक अधेड की हत्या कर दी गई। वैसे इस हत्या में तो मृतक के परिजन सीधा सीधा आरोप दो लोगो पर लगा रहे है। हालांकि मौके पर पहुंच कर अपनी विधिक कार्यवाही में जुट गई है लेकिन भदोही एक बार फिर इस घटना से दहल गया।मृतक के भाई माता गुलाम का आरोप है कि उसके भाई राम लखन को गांव के ही राजकुमार पुत्र रामजतन हरिजन तथा लोरी उर्फ जगन्नाथ पुत्र दुखई ने भाई राम लखन को अपने दरवाजे पर बुलाकर हत्या कर दी है। घटना की सूचना पाकर पुलिस अधीक्षक,क्षेत्राधिकारी ज्ञानपुर व प्रभारी निरीक्षक गोपीगंज मय पुलिस बल के मौके पर पहुंच गये। और मृतक के शव को कब्जे पुलिस में लेकर नियमानुसार विधिक कार्यवाही कर रही है।

पूछ ताछ करती पुलिस

बेरासपुर में परिजनों ने विवाहिता को जलने से बचाया,बडी घटना टली

बेरासपुर में परिजनों ने विवाहिता को जलने से बचाया,बडी घटना टली

सन्तोष तिवारी की रिपोर्ट :-भदोही। गोपीगंज थाना क्षेत्र बेरासपुर में रविवार को एक बडी घटना होते होते बच गई। एक विवाहिता ने पारिवारिक विवाद की वजह से रविवार को आग लगाने के लिए मिट्टी के तेल उड़ेल लिया। लेकिन परिजनों जिसमें विवाहिता की ननद और भांजे समेत परिजनों के सक्रियता से वह महिला आग न लगा सकी। और घटना होते होते बच गई। परिजनों ने घटना को भांपते हुए तुरन्त ग्राम प्रधान और पुलिस को सूचित किया। और पुलिस मौके पर पहुंचकर मामले की जानकारी ली।
जानकारी के मुताबिक बेरासपुर निवासी ओमप्रकाश सरोज उर्फ करिया की पत्नी गीता देवी ने ससुराल वालों पर आरोप लगाया कि बीते 15 वर्षो से पारिवारिक विवाद से परेशान हूं और अजीज आकर यह फैसला लिया। इधर कुछ दिनों से परिवार में विवाद होने से वह नाराज थी। रविवार की सुबह खुद के ऊपर मिट्टी का तेल उडेल कर आत्महत्या करने की प्रयास किया लेकिन परिजनों की सक्रियता से एक घटना होने से बचा लिया। जबकि विवाहिता ने पारिवारिक विवाद को ही मुख्य बात बताई। विवाहिता के तीन बच्चे है। बडी बिटिया 13 वर्ष की है और दो छोटे बेटे है। विवाहिता का पति परिवहन विभाग में संविदाकर्मी है। महिला का मायका सुरियावां थाना के एक गांव में है। इस घटना को लेकर गांव में तरह तरह की चर्चा कर रहे है। लेकिन एक बडी घटना होने से बचाने के लिए लोग महिला के परिजनों की प्रशंसा भी कर रहे है। परिवार के बीच आन्तरिक विवाद की जानकारी तो पुलिस की पूछताछ से स्पष्ट हो पायेगा। हालांकि पुलिस भी सक्रियता दिखाते हुए शीघ्र ही मौके पर पहुंची।